Friday, April 13, 2018



मन की बात आज कल बहुत चर्चा में है. तो सोचा आज मैं भी कुछ मन की बात कर लूँ ..विषय भी ऐसा था की लगा की शायद आज से बेहतर दिन कोई और होगा भी नहीं....चलो शुरू करते हैं मन की बात ....

आप सबने टीवी पर एल आई सी का ऐड तो देखा ही होगा और आज से नहीं कई सालोन से देख रहे होंगे....कभी कुछ गौर किया कुछ ऐसा जो आपको खटका हो...जो आपको सही ना लगा हो...मुझे खटका और बहुत जोर का खटका....
उस ऐड में एक दुखी औरत दिखाये जाती है जिसके ठीक बगल में य़ा पिछे उसके स्वर्गवासी पति की तस्वीर लगी होती है ....वो रो रही होती है और बोलती है की उसके पति ने अपने जीते जी एल आई सी ले लिया था ताकी उनके परिवारं का भविष्य सेफ रहे य़ा वो ये बोलेगी की उसके पति ने कभी भविष्य का नहीं सोचा और कोई एल आई सी प्लान नहीं लिया अब उसका और परिवार का क्या होगा.....
सालों से कुछ ऐसा ही ऐड देख रहे हैं ना हम सब. कुछ नय़ा नहीं...कभी सोचा की ये दृश्य उल्टा भी तो हो सकता था...कुर्सी पर पति होता और तस्वीर में पत्नी ....पति दुखी होता य़ा पति गर्वित होता की उसकी बीवी ने एल आई सी लेकर उसका और उसके परिवारं का भविष्य सेफ कर दिया....
पर नहीं ऐसा नहीं हो सकता कभी नहीं हो सकता क्यूंकी हम कभी ये स्वीकारते ही नहीं हैं की एक औरत भी कभी इतनी मजबूत हो सकती है य़ा इतनी समझदार हो सकती है...औरत सिर्फ आश्रित ही होती है.. वो कभी किसी का सहारा नहीं बन सकती....

क्यू यही सोच है ना सबकी....बेचारी........
और हम औरतें भी बड़ा गर्व फील करते हैं बिचारी सुन कर....हमें बड़ा संतोष मिलता है....

आज आधी अबादी हैं हम पर फिर भी बेचारी....क्यू किस लिये....क्यू हम मजबूत नहीं बन सकते क्यू हम सब अकेले नहीं कर सकते क्यू हम परिवार की ज़िम्मेदारी अकेले नहीं उठा सकते.....क्यू हम माँ बाप का सहारा नहीं बन सकते....हम सब कर सकते हैं.....और हम सब करेंगे....

क्यूंकी मजबूत कंधे सिर्फ पुरूषों की ही जागीर नहीं है...हमारे कंधे में भी उतनी ही हड्डीयां हैं....

No comments:

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...