Tuesday, February 22, 2011

वो भारत देश है मेरा




 
बीती रात टीवी पर अपना पसंदीदा  प्रोग्राम देख रही थी ' तारख महेता का उल्टा चश्मा' | हालाँकि यह प्रोग्राम हमेशा ही अच्छा होता है पर कल कुछ खास था उसमे | उसमे गोकुलधाम में रहने वाले  सभी लोग कर्नल राठोड को उनका खोया हुआ मेडल वापस   देने जाते हैं, पर कर्नल साहब उसे स्वीकार करने से मना कर देते हैं  और इसके पीछे वो एक बेहद संवेदनशील तर्क भी देते हैं उनका यह साफ़ साफ़ कहना था कि उन्हें यह मेडल इस देश कि सरकार ने देश में शांति लाने के लिए दिया था पर आज देश में न तो शांति है और न ही भाईचारा, चारों तरफ सिर्फ और सिर्फ भ्रष्टाचार और आतंकवाद ही दिख रहा है, लिहाज़ा उनका उस उद्देश्य के लिए मेडल लेना व्यर्थ है जो अब है ही नहीं | 
                                                      दोस्तों कहने को तो यह सिर्फ एक सीरिअल है पर सच यही है कि उसमे जो कुछ भी कहा गया वो असल में सच ही तो है | देश कि सीमाओं पर लड़ने वाले हमारे सिपाही सरहद के बाहर के दुश्मनों से तो हमारी रक्षा कर रहे हैं पर उन दुश्मनों का क्या जो सरहदों के अन्दर छिपे बेठे हैं | उनका सफ़ाया कैसे  करेंगे ?  बात तब और भी ज्यादा गंभीर हो जाती है जब हर बार हम उन दुश्मनों को देश के अन्दर  हमला करते हुए देखते हैं और चाह कर भी कुछ नहीं कर पाते |  हर बार अपने मन से कहते हैं कि बस यह अब आखिरी बार है अब और नहीं | लेकिन पता नहीं हर बार किसके डर से हम खुद को कोई बड़ा कदम उठाने से रोक लेते हैं | क्यूँ हर बार हमारे मन के एक कोने से यह आवाज़ आती है कि 'जाने दो यार हमे क्या करना ये हमारा काम थोड़ी है', विश्वास रखिये जब तक ये आवाज़ हमारे दिल से आती रहेगी इस देश का कुछ नहीं हो सकता | आखिर कब तक हम हर काम  सिर्फ दूसरों पर छोड़ते रहेंगे ? कब तक हम सिर्फ ये सोचते रहेंगे कि ये हमारा काम नहीं है ? 
कहीं ऐसा न हो कि हम सिर्फ इंतज़ार करते रह जाये कि कोई कुछ करेगा और कोई हमे ही लूट के चल दे | क्योंकि तब हमारे पास पछतावे के अलावा और कुछ नहीं बचेगा | 
                     इसलिए बहेतर यही है कि क्यूँ न कोई एसा ठोस कदम अब उठाया जाये जिससे इस समस्या का समूल नाश हो  और एक बार हम फिर वह ही देशभक्त गीत सच्चे मन से गा सकें-------------
 'जहाँ डाल डाल पर सोने कि चिड़िया करती हैं बसेरा, वो भारत देश है मेरा, 
जहाँ सत्य अहिंसा और धर्म का पग पग लगता डेरा, वो भारत देश है मेरा'|   

1 comment:

archit pandit said...

mam sayad ab waqt aa gaya hai apne sahido ko sradhanjali dene ka mai taiyaar hu

LinkWithin

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...